Software क्या है? | What is Software in Hindi

नमस्कार दोस्तों आशा करता हूं आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका हार्दिक स्वागत है मेरे इस लेख में आज के इस लेख के मदद से हम Software क्या है? (What is Software in hindi) के बारे में संपूर्ण जानकारी पूरे विस्तार से जानने वाले हैं और इसके बारे में हम समझने भी वाले हैं।

दोस्तों यदि आप टेक्नोलॉजी से जुड़े हैं तो कभी ना कभी सॉफ्टवेयर के बारे में जरूर सुने होंगे क्योंकि  हमारे कंप्यूटर और मोबाइल फोन में सॉफ्टवेयर काफी ज्यादा जरूरी हो गए हैं  जिनके बिना हमारा कंप्यूटर और मोबाइल को चलाना है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह सॉफ्टवेयर क्या होते हैं और इन के कितने प्रकार होते हैं ।

यदि आपको नहीं पता है तो हम इस आर्टिकल में यही बताने वाले हैं इसके अलावा हम लोग इस आर्टिकल में सॉफ्टवेयर से जुड़ी और भी बहुत सारी सारी जानकारियों को प्राप्त करने वाले हैं जैसे कि software कैसे काम करते हैं और इन्हें कौन बनाता है

इसके अलावा हम लोग इस आर्टिकल में जानेंगे कि software और उनके उदाहरण, software सॉफ्टवेयर को कौन बनाता है और इस आर्टिकल के अंत में हम लोग जानेंगे कि system software और application software में क्या अंतर होता है, Computer software कहां मिलते है ।

तो दोस्तों यदि आपको इन सारी जानकारियों के बारे में कुछ भी किया नहीं है और आप यह सब जाना चाहते हैं तो हमें आपसे अनुरोध है कि कृपया आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा अंत तक और ध्यान से जरूर पढ़ें तभी आपको सॉफ्टवेयर से जुड़ी सभी बातें सही से समझ आएगी और आप सॉफ्टवेयर से जुड़ी सभी जानकारियों को प्राप्त कर पाएंगे। दोस्तो बिना कोई देरी के चलिए अब आज के इस नए आर्टिकल को शुरू करते हैं और जानते हैं कि Software क्या है और इसके कितने प्रकार होते हैं।

Bank accounts से online recharge कैसे करें

Software क्या है? (What is Software in hindi)

What is Software - Javatpoint

Software बहुत सारे programs का संग्रह होता है जो एक computer device के विशिष्ट कार्य को निष्पादन करता है. software एक सामान्य शब्द है जिसका उपयोग किसी डिवाइस पर चलने वाले application, स्क्रिप्ट और प्रोग्राम को संदर्भित करने के लिए किया जाता है। हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में जितने भी Task करते हैं वो सभी इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से ही संपन होते हैं ।

यानी कि हम कंप्यूटर या लैपटॉप में जो जो भी कार्य करते हैं वह सभी सॉफ्टवेयर के द्वारा किए जाते हैं सॉफ्टवेयर उन set of instructions को refer किया जाता है जिन्हें की fed किया जाता है प्रोग्राम के form में, ताकि वो पुरे कंप्यूटर device सिस्टम को govern कर सके और साथ में दुसरे सभी हार्डवेयर components को process भी कर सकें.

ये सभी वो commands होते हैं जो की हार्डवेयर को drive करते हैं. MS-WORD जिसमे हम कुछ  कोई भी वर्ड टाइप करते है. 

फोटोशॉप जिसमे हम  फोटो को एडिट करते हैं. Google Chrome जिसे Internet Access करते हैं, जिसे  ब्राउज़र और सर्च इंजन भी कहते हैं. दोस्तों यदि हम कुछ सॉफ्टवेयर के उदहारण की बात करें तो कुछ सॉफ्टवेयर के उदाहरण है जैसे कि Google Chrome, MS-WORD, Photoshop, UC Browser, VLC Player, इत्यादि. इन्हें हम सॉफ्टवेयर कहते है।

सॉफ्टवेयर की मुख्य दो कैटेगरी होती है एक application software और दूसरा system software होता है दोस्तों जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि application software में  कोई एप्लीकेशन को सॉफ्टवेयर कहते हैं और system software कोई कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर को कहा जाता है।

System software को मुख्य कंप्यूटर के हार्डवेयर को चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है अन्य प्रकार के software में programming software शामिल हैं, जो programming टूल सॉफ़्टवेयर डेवलपर्स को प्रदान करता है; मिडलवेयर, जो system software और application के बीच बैठता है; और driver software, जो computer और बाह्य उपकरणों को संचालित करता है।

प्रारंभिक software अच्छे या विशिष्ट कंप्यूटरों के लिए लिखा गया था और उस hardware  के साथ बेचा जाता था जिस पर वह चलता था। 1980 के दशक में, floppy disks और बाद में DVD और CD पर software की बिक्री शुरू हुई। आज, अधिकांश software internet  पर खरीदे और सीधे install या डाउनलोड किए जाते हैं।

Online KBC कैसे खेले? | Kaun Banega Crorepati कैसे खेले?

Software का हिंदी मे अर्थ क्या होता है? (Meaning of Software in hindi)

Programs  या Instructions के Collection को software कहते हैं, यह Programs Computer को Users के इस्तमाल योग्य बनाते हैं. अगर हम कुछ  सॉफ्टवेयर के उदाहरण देखे तो जैसे Operating System, सबसे पहले Android OS (Operating System) Software को Mobile/Computer में Install किया जाता है, उसके बाद ही आप इसे इस्तमाल करते हैं ।

अब सवाल आता है यह Programs और Instruction क्या है. इसे पहले आपको Programming Language का ज्ञान होना अति आवश्यक है. ऑपरेटिंग सिस्टम, सबसे पहले एंड्राइड OS Software को Computer या Mobile में डाउनलोड किया जाता है, उसके बाद ही आप इस Software को इस्तमाल करते हैं.

IMEI नंबर से मोबाइल का पता कैसे करे

Software के प्रकार (Types of Software in Hindi?)

दोस्तों इस टॉपिक में हम लोग जानने वाले हैं कि Software के कितने प्रकार होते हैं   तो दोस्तों यदि आप नहीं जानते हैं कि सॉफ्टवेयर के कितने प्रकार होते हैं तो हम इस टॉपिक में यही बताने वाले हैं दोस्तों अगर आप सॉफ्टवेयर के सभी उदाहरण के बारे में जानना चाहते हैं तो इस टॉपिक को पूरा अंतर और ध्यान से जरूर पढ़ें ।

क्योंकि इस टॉपिक में हम लोग सभी सॉफ्टवेयर के उदाहरण के साथ-साथ उनके बारे में भी कुछ जानकारी को प्राप्त करेंगे तो दोस्तों चलिए अभी इस टॉपिक को शुरू करते हैं और जानते हैं Software के सभी प्रकार के बारे में,

दोस्तों यदि हम बात करें कि इस सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं तो हम आपको बता दें कि मुख्य तौर पर कंप्यूटर क सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते हैं; जो की हैं application software, system software और utility software यह सभी सॉफ्टवेयर के प्रकार हैं।

Wi-Fi की speed कैसे बढ़ाएं ( 10+ आसान तरीका )

1. Application software :

Software 101: A Complete Guide to the Different Types of Software - Coderus

Application software ऐसे software program होते हैं जो एक विशिष्ट कार्य या संबंधित कार्यों का एक सेट करते हैं, और इसे अक्सर computer के साथ खरीदा जाता है जब इसे खरीदा जाता है।

2. System software 

System Software Tutorial for Beginners - Electronics and Communication  Study Materials

system software :- दोस्तों हम आपको बता दें कि system software कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के अलग-अलग हिस्से होते हैं जो कंप्यूटर को operating system, डिवाइस ड्राइवर और उपयोगिताओं जैसे कार्य करने की अनुमति देते हैं।

3.  Utility software

utility software उत्पादकता उपकरण हैं जो विशिष्ट कार्यों या कार्यों के सेट को आसान बनाने में मदद करते हैं जैसे स्प्रेडशीट प्रोग्राम,  डेटाबेस प्रबंधन वर्ड प्रोसेसिंग, और photo editing software इन सारे सॉफ्टवेयर utility software के उदाहरण है।

4. Programming software

programming software का उपयोग computer programmer कोड लिखने के लिए करते हैं। programming tools  और programming software डेवलपर्स को अन्य सॉफ्टवेयर प्रोग्राम विकसित करने, write, test करने और debug करने में सक्षम बनाते हैं।

अगर हम programming software के  कुछ उदाहरणों के बारे में बात करें तो इसका कुछ मुख्य उदाहरण है जैसे कि compilers, assemblers, interpreters और debuggers

मल्टीमीडिया क्या है | What is Multimedia in Hindi

5. Driver software

Driver Updater, your ultimate driver's problem solver

Device Driver के रूप में भी जाना जाता है, इस Driver software को अक्सर एक प्रकार का system software माना जाता है। device Driver computer से जुड़े उपकरणों को नियंत्रित करते हैं, जिससे वे अपने विशिष्ट कार्यों को करने में सक्षम होते हैं। computer से जुड़े प्रत्येक उपकरण को कार्य करने के लिए कम से कम एक device driver की आवश्यकता होती है।

उदाहरणों में ऐसे सॉफ़्टवेयर शामिल हैं जो किसी भी गैर-मानक hardware के साथ आते हैं, जिसमें विशेष गेम नियंत्रक शामिल हैं, साथ ही वह software जो मानक हार्डवेयर को सक्षम करता है, अगर इस सॉफ्टवेयर के उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे कि जैसे USB संग्रहण डिवाइस, हेडफ़ोन कीबोर्ड, और प्रिंटर  इत्यादि

वेब ब्राउज़र क्या है? | What is web browser in Hindi

सॉफ्टवेयर का इतिहास (History of software)

History of software - Wikipedia

दोस्तों इस टॉपिक में हम लोग जानने वाले हैं कि Software का इतिहास के बारे में तो दोस्तों यदि आप नहीं जानते हैं कि सॉफ्टवेयर का इतिहास के बारे तो हम इस टॉपिक में यही बताने वाले हैं दोस्तों इस टॉपिक में हम लोग सॉफ्टवेयर के पूरी इतिहास को जानेंगे और जानेंगे कि सॉफ्टवेयर का इतिहास कितना पुराना है और यह भी जानेंगे कि कब से सॉफ्टवेयर बनाना स्टार्ट हुआ था ।

तो यदि आप इन सभी जानकारियों के बारे में नहीं जानते हैं और जानना चाहते हैं कि सॉफ्टवेयर का इतिहास क्या है तो तो इस टॉपिक को पूरा अंतर और ध्यान से जरूर पढ़ें क्योंकि इस टॉपिक में हम लोग सॉफ्टवेयर इतिहास को पूरी गहराई से जाने वाले हैं साथ-साथ उनके बारे में भी कुछ जानकारी को प्राप्त करेंगे तो दोस्तों चलिए अभी इस टॉपिक को शुरू करते हैं और जानते हैं Software का इतिहास के बारे मे,

सबसे पहले software शब्द का प्रयोग 1950 के दशक के अंत तक नहीं किया गया था। इस समय के दौरान  विभिन्न- विभिन्न प्रकार के programming software को software developer द्वारा बनाए जा रहे थे, वे software developer आम तौर पर व्यावसायिक रूप से उपलब्ध नहीं थे। इसीलिए  उपयोगकर्ताओं और ज्यादातर बड़े- बड़े उद्यमों और वैज्ञानिकों को अक्सर अपना software लिखना पड़ता था।

सबसे पहले 21 जून, वर्ष 1948 को टॉम किलबर्न जोकि एक कंप्यूटर वैज्ञानिक थे वे इंग्लैंड में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय में मैनचेस्टर baby computer के लिए दुनिया का पहला software लिखते हैं।

उसके बाद फिर वर्ष 1950 के दशक की शुरुआत में  IBM company ने आईबीएम 701 इलेक्ट्रॉनिक डाटा प्रोसेसिंग मशीन के लिए जनरल मोटर्स पहला ओएस बनाता है। इसे जनरल मोटर्स ऑपरेटिंग सिस्टम या जीएम ओएस कहा जाता था। उसके बाद फिर वर्ष 1958 सांख्यिकीविद् जॉन टुके ने कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के बारे में लिखते समय सॉफ्टवेयर  शब्द का उपयोग किया था।

उसके बाद फिर 1960 floppy disks को पेश किया गया है और 1980 और 1990 के दशक software को वितरित करने के लिए किया जाता है। उसके बाद 1977 मे Apple ने Apple II  को मार्केट में लॉन्च किया और उसी वक्त उपभोक्ता सॉफ्टवेयर शुरू हुआ।

उसके बाद 1981 मे Microsoft ने भी  अपना सॉफ्टवेयर जारी किया. 1980 के दशक के मध्य में AutoDesk AutoCAD, Microsoft Word और Microsoft Excel सहित  बहुत सारे प्रमुख सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन  लांच किए गए थे।

उसके बाद 1991 में Linux OS सॉफ्टवेयर को लॉन्च किया गया और  फिर उसके बाद वर्ष 1997 डीवीडी सॉफ्टवेयर को लॉन्च किया गया. और उस वक्त शिर्डी के मामले में यह डीवीडी अधिक डेटा रखने में सक्षम था ,  उसके बाद फिर 2000 सॉफ्टवेयर शब्द काफी प्रचलन में आया था, उसके बाद वर्ष 2007 में IPhone लॉन्च हो गया था और मोबाइल सॉफ्टवेयर  लांच होने लगे थे ।

उसके बाद फिर 2010 से अभी तक जैसे-जैसे उपयोगकर्ता इंटरनेट और क्लाउड से सॉफ़्टवेयर खरीदते और डाउनलोड करते हैं, सॉफ्टवेयर,अप्रचलित होती जा रही है।

Blog क्या है | what is Blog in Hindi

सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है? (How the software works)

दोस्तों इस टॉपिक में हम लोग जानने वाले हैं कि सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है तो यदि आपको नहीं पता है कि सॉफ्टवेयर काम कैसे करते हैं और जानना चाहते हैं कि सॉफ्टवेयर कैसे काम करते हैं तो आप हमारे इस टॉपिक को पूरा ध्यान से पढ़ें क्योंकि इस टॉपिक में हम लोग  विस्तार से बताने वाले हैं कि सॉफ्टवेयर आपके कंप्यूटर में कैसे काम करते हैं तो चलिए अब इस टॉपिक को शुरू करते हैं और जानते हैं कि सॉफ्टवेयर कैसे काम करते हैं,

दोस्तों अगर आप जानना चाहते हैं कि सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है तो हम आपको जानकारी के लिए बता दें कि सभी सॉफ्टवेयर निर्देश और डेटा प्रदान करते हैं जो कंप्यूटर को काम करने और उपयोगकर्ताओं की जरूरतों को पूरा करने की आवश्यकता होती है।

दोस्तों जैसा कि हम लोग जाने ही हैं कि सॉफ्टवेयर के दो अलग-अलग प्रकार होते हैं एक है एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर और दूसरा है सिस्टम सॉफ़्टवेयर,  यह दोनों सॉफ्टवेयर एक-दूसरे से काफी अलग  तरीके से काम करते हैं तो दोस्तों चली आप जानते हैं कि यह दोनों सॉफ्टवेयर कैसे काम करते हैं।

Application software

Application software में कई प्रकार के अलग-अलग  प्रोग्राम होते हैं जो उपयोगकर्ताओं के लिए विशिष्ट कार्य करते हैं, जैसे वेबसाइटों को नेविगेट करना और रिपोर्ट लिखना शामिल है।

दोस्तों जैसा कि हम भी लोग जानते हैं कि कंप्यूटर पर एप्लीकेशन अपने आप नहीं चल सकते हैं इसलिए उनको अच्छे से काम करने के लिए अन्य सहायक सिस्टम software program के साथ कंप्यूटर के OS की आवश्यकता होती है।

इस प्रकार के application software डेस्कटॉप एप्लिकेशन उपयोगकर्ता के कंप्यूटर या लैपटॉप पर इंस्टॉल किए जाते हैं और कार्यों को पूरा करने के लिए Computer memory का उपयोग करते हैं।

वे सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव पर जगह लेते हैं और उन्हें काम करने के लिए इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता नहीं होती है। हालाँकि, डेस्कटॉप अनुप्रयोगों को उन हार्डवेयर उपकरणों की आवश्यकताओं का पालन करना चाहिए जिन पर वे  सभी सॉफ्टवेयर चलते हैं।

इसके अलावा दूसरी तरफ वेब एप्लिकेशन  को कम करने के लिए सिर्फ इंटरनेट एक्सेस की आवश्यकता होती है, वे सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए हार्डवेयर और सिस्टम सॉफ़्टवेयर पर निर्भर नहीं होना पड़ता है, इसलिए काफी सारे उपभोक्ता वेब ब्राउज़र वाले उपकरणों से अपने  वेब एप्लिकेशन लॉन्च करना पसंद करते हैं, उपयोगकर्ता मैक, विंडोज, लिनक्स या किसी अन्य ओएस से एप्लीकेशन को  मार्केट में लॉन्च कर सकते हैं।

System software

दोस्तों हम आपको बता दें कि यह system software एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर से काफी अलग होता है क्योंकि इस system software  एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर हार्डवेयर के बीच बैठता है।

इस सॉफ्टवेयर को उपयोग करने वाले उपयोगकर्ता system software के साथ सीधे इंटरैक्ट नहीं कर सकते हैं ऐसा इसलिए है  क्योंकि यह software पृष्ठभूमि में चलता है, कंप्यूटर के बुनियादी कार्यों को संभालता है। यह software एक सिस्टम के सॉफ़्टवेयर और हार्डवेयर का समन्वय करता है।

ताकि उपयोगकर्ता विशिष्ट कार्यों को करने के लिए  हाई लेवल का अच्छा वाला एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर को इस्तेमाल कर सके। system software तब निष्पादित होता है जब कोई कंप्यूटर सिस्टम बूट हो जाता है और जब तक  यह कंप्यूटर सिस्टम चालू रहता है तब तक यह सिस्टम सॉफ्टवेयर चलता रहता है।

Software और उनके उदाहरण

दोस्तों इस टॉपिक में हम लोग जानने वाले हैं कुछ मशहूर सॉफ्टवेयर्स के बारे में और उनके उदाहरण दोस्तों यदि आप जानना चाहते हैं software और उनके उदाहरण के बारे में तो आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि इस आर्टिकल में हम लोग बहुत प्रकार के software को जानेंगे और साथ ही साथ उनके उदाहरण के  बारे में भी जानेंगे तो चलिए अब इस टॉपिक को शुरू करते हैं और जानते हैं software और  उनके उदाहरण के बारे में, 

Internet browser software:- तो सबसे पहला आता है internet browser software जिसे कंप्यूटर में और मोबाइल में ब्राउज़र के रूप में इस्तेमाल किया जाता है इसका कुछ उदाहरण है जैसे कि Firefox, Safari, Google Chrome, UC Browser, Internet Explorer इत्यादि

Antivirus software:- यह सॉफ्टवेयर कुछ ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जिससे कंप्यूटर को उपयोग किया जाता है और उस पर अटैक कर रहे viruses को बजाया जाता है अगर हम इस सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण की बात करें तो सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण है जैसे कि AVG, Housecall, McAfee, Norton इत्यादि

Operating system software यह सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है और इस वजह से  कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम काम करता है अगर हम कुछ इस software उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे की Android, macOS, iOS, Windows, Linux, इत्यादि

Utility software:- यह सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है अगर हम कुछ इस software उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे की Compression, Registry cleaner, Disk Cleanup, Encryption, Screensaver इत्यादि जैसे कुछ उदाहरण है। 

Game software:- यह प्रकार के सॉफ्टवेयर   एक ऐसे कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होते हैं जिसे खेला जाता है इस software उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे की NFL Football, Madden, Quake, World of Warcraft इत्यादि जैसे कुछ उदाहरण है।

Graphics program:- यह प्रकार के सॉफ्टवेयर एक ऐसे कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होते हैं जिससे ग्राफिक डिजाइन किया जाता है इस सॉफ्टवेयर के उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे की CorelDRAW, Adobe PhotoShop इत्यादि जैसे कुछ उदाहरण है।

Programming software:- यह सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है और इससे Programming किया जाता है अगर हम इस सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण के बारे में बात करें तो इसका उदाहरण है जैसे की C++, Java, Perl, HTML, Visual Basic (VB) इत्यादि जैसे कुछ उदाहरण है।

इसके अलावा और भी बहुत प्रकार के सॉफ्टवेयर होते हैं जैसे कि Audio / Music program, Database software, Device drivers software, E-mail, Movie player software, Word processor, Presentation, Spreadsheet इत्यादि जैसे कुछ जानेमने सॉफ्टवेयर हैं जिनका अधिकतर इस्तेमाल किया जाता है।

Data क्या होता है और इसके कितने Types होते हैं ? | What is data in Hindi

FAQs

Q. Software कौन बनाते है? (Who makes the software)

दोस्तों अगर आपको नहीं पता है कि सॉफ्टवेयर कौन बनाते हैं और आप जानना चाहते हैं कि सॉफ्टवेयर कौन बनाते हैं  तो हम आपको जानकारी के लिए बता दें कि सॉफ्टवेयर को  मुख्य तौर पर सॉफ्टवेयर डेवलपर बनाते हैं। 

जीने हम application developer या software developer कहते हैं और हम आपको बता दें कि software developer जिस भी कंपनी में काम करके सॉफ्टवेयर को डिवेलप करते हैं उसे software product development company कहा जाता है। software development company मे यहाँ यूज़र के ज़रूरत और requirements के हिसाब से software को तैयार किया जाता है।

Q. Software को हम क्यूँ देख या छु नहीं सकते हैं?

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि Softwares को हम अपनी आंखों से न तो देख सकते हैं  और ना तो छू सकते हैं दोस्तों अगर आप यह जानते हैं तो क्या आप यह जानते हैं कि हम लोग क्यों सॉफ्टवेयर को देख या छु नहीं सकते है ऐसा इसलिए  होता है क्योंकि इन सभी सॉफ्टवेयर का कोई भी भौतिक अस्तित्व नहीं होता हैं। यह एक आभासी वस्तु हैं जिसे केवल समझा जा सकता हैं.

दोस्तों क्या आप यह भी जानते हैं कि हम बिना  सॉफ्टवेयर Application कभी भी अपने Mobile और Computer को चला ही नहीं सकते हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि मोबाइल में और कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर का बहुत  इस्तेमाल है जिसकी वजह से हम मोबाइल और कंप्यूटर को चला पाते हैं हम लोग कोई भी ऐप कोई भी वेबसाइट या फिर कोई भी एप्लीकेशन को इस्तेमाल करते हैं वह सभी सॉफ्टवेयर होता है तो अब आप समझ गए होंगे कि मोबाइल और कंप्यूटर को चलाने के लिए सॉफ्टवेयर का कितना ज्यादा महत्व है.

Q. Computer software कहां मिलते है?

दोस्तों अगर आप नहीं जानते हैं कि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कहां मिलते हैं तो हम आपको बता दें कि कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर आपको ऑनलाइन  इंटरनेट पर मिल सकते हैं इसके अलावा आपको  ऑफ़्लाइन भी मिल सकते हैं. ऑनलाइन में आपको उन सॉफ्टवेयर की official site या कुछ दूसरे downloading site पर मिल जाएँगी।

वहीं अगर आप ऑफलाइन सॉफ्टवेयर को डलवाना चाहते हैं तो ऑफ़्लाइन में आपको computer के दुकान पर आसानी से कोई भी software मिल जाएँगी. आप वहां पर जाकर  कोई भी सॉफ्टवेयर अपने कंप्यूटर में डलवा सकते हैं।

Q. क्या हम फ्री software डाउनलोड कर सकते हैं?

दोस्तों यदि आप का सवाल है कि क्या हम फ्री में कोई सॉफ्टवेयर को डाउनलोड कर सकते हैं तो हम आपको बता दें कि हां आप बिल्कुल फ्री में सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते हैं दोस्तों यदि आप फ्री में कोई सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करना चाहते हैं ।

तो वह हम आपको बता दें कि फ्री में सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने वाली बहुत सारी free software downloading website है जिन पर जाकर आप फ्री में कोई भी सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर डिवाइस में डाउनलोड कर सकते हैं और फ्री में इस्तेमाल कर सकते हैं

Q. Software की परिभाषा (definition of software)

software या जिसे हम computer software भी कहते हैं वो असल में एक कुछ program होते हैं जो की user को सक्षम बनाते हैं कुछ विशेष कार्य करने के लिए। ये  सॉफ्टवेयर असल में computer system को या उसके peripheral devices को निर्देशित करती है कोई भी कार्य करने के लिए और साथ में उस कार्य को कैसे करना है उसके बारे में भी जानकारी देती है।

सच में एक अच्छी software की बहुत ही बड़ी और मुख्य भूमिका निर्वाह करता है उस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने वाला एक users और computer hardware के बीच में software के बिना महजूदगी में एक user चाहकर भी किसी भी प्रकार का काम computer पर नहीं कर सकता है।

Q. System software और application software में क्या अंतर होता है?

दोस्तों यदि आपको नहीं पता है कि system software और application software में क्या अंतर होता है तो हम आपको जानकारी  के लिए बता दें कि system software ऐसी software होती है जो की एक interface के रूप में कार्य करती है वहीं अगर हम बात करें application software के बारे में ।

तो application software और system के बीच. वहीं एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ऐसी software होती है जो की users  के रिक्वेस्ट के अनुसार कार्य करती है. यह एक ऐसी प्लाट्फ़ोर्म पर run करती है जिसे की system software द्वारा प्रदान किया गया होता है.

Yahoo क्या है और Yahoo कैसे काम करता है?

 [ अंतिम विचार, Conclusion ]

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख Software क्या है? (What is Software in hindi) आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से वह सभी चीजों के बारे में पूरे विस्तार से जान चुके होंगे जिस के लिए आप हमारी वेबसाइट पर आए थे।

हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आप को सॉफ्टवेयर (Software) से जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की है दोस्तों हम लोग इस आर्टिकल में सॉफ्टवेयर (Software) से जुड़ी काफी जानकारियों को प्राप्त किया है जैसे कि सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं, software काम कैसे करता है, और सॉफ्टवेयर का इतिहास क्या रहा है  इसके अलावा हम लोग इस आर्टिकल में जाने हैं कि software और उनके उदाहरण, software सॉफ्टवेयर को कौन बनाता है ।

और आर्टिकल के अंत में  हमने बताया है कि system software और application software में क्या अंतर होता है, Computer software कहां मिलते है,  इन सभी जानकारियों के बारे में हम लोग इस आर्टिकल में पूरा विस्तार से बात किये है तो दोस्तों यदि आप इस आर्टिकल को पूरा  ध्यान से और अंत तक पढ़े होंगे तो हमें उम्मीद है कि आपको सॉफ्टवेयर से जुड़ी सभी जानकारी मिल गई होगी।

अगर दोस्तों आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को,पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं।

हमारी समूह आपकी मैसेज के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि Software क्या है? (What is Software in hindi) पर यह पोस्ट लगा  ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे। तो चलिए दोस्तों इसी जानकारी के साथ हम अब इस लेख को समाप्त करते हैं और अगर आपको हमरा यह पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद………

Leave a Comment